Thought You

Thought You ,
Could Use Some Beauty
In Your Life Today,
So I’m Sending You This Greeting
To Let You Know That I’m
Thinking About You
And Sending Some Good Wishes Your Way.
May Your Day Be Touched With Sunshine,
Your Heart Overflow With Love,
And Your Soul Sing With Hope.
May Everything In Your Life Sparkle
With A Radiance That
Comes Only From Happiness !
May Allah Bless Your Day ,
With Alot Of Love !!!

Khubsoorat hain woh lub

Khubsoorat hain woh lub
Jo pyari batein kartey hain

Khubsoorat hai woh muskurahat
Jo doosron ke chehron per bhi muskan saja de

Khubsoorat hai woh dil
Jo kisi ke dard ko samjhey
Jo kisi ke dard mein tadpey

Khubsoorat hain woh jazbat
Jo kisi ka ehsaas karein

Khubsoorat hai woh ehsaas
Jo kisi ke dard ke me dawa baney

Khubsoorat hain woh batein
Jo kisi ka dil na dukhaein

Khubsoorat hain woh ansoo
Jo kisi ke dard ko mehsoos kerke beh jae

Khubsoorat hain woh hath
Jo kisi ko mushkil waqat mein tham lein

Khubsoorat hain woh kadam
Jo kisi ki madad ke liye aagey badhein !!!!!

Khubsoorat hai woh soch
Jo kisi ke liye acha sochey

Khubsoorat hai woh insan
Jis ko khuda ne ye
Khubsoorati ada ki.

Or woh khusnaseeb hai,
Jinhe aap jaise khubsoorat DOST milein
jaise aap

Khwab Toot Jaate Hain

Khwab Toot Jaate Hain,
Bhid Me ZaManeki,
Haath Chhoot Jaate Hain,
Durustdar Lehjo Mein Silwatein Si Pad Jaati Hai
Ek Zara Si Ranjish Se
Shak Ki Zard Tehni Par Phool BadguMani Ka,
Is Tarahse Khilte Hain,
Zindagi Se Pyare Bhi
Ajnabi Se Lagte Hai, Gair Banke Milte Hai,
UMar Bhar Ki Chahat Ko Aasra Nahi Milta,
Dasht-E-Beyakeeni Me Rasta Nahi Milta,
KhaMoshi Se Wakfoon Mein,
Baat Toot Jaati Hai Aur Sira Nahi Milta,
Khoye Hue Se Lafzon Ko Roshni Nahi Milti
WehMon Ke Saaye Se UMar Bhar Ki Mehnat Ko
Pal Mein Toot Jaate Hai,
Ek Zara Si Ranjish Se,
Saath Chhut Jaate Hai,
Bhid Mein ZaManeki
Haath Chhut Jaate Hain,
Khwaab Toot Jaate Hain

GaMon Ko Mujhse Ek Chahat Si Ho Gayi Hai

GaMon Ko Mujhse Ek Chahat Si Ho Gayi Hai,
Main Udaas Nahi, Udaas Rehne Ki Aadat Si Ho Gayi Hai,

Ye Kaisa Wakt Aya Hai Ke Subah Bhi So Gayi Hai,
Kudrat Se Shayad Roshni Hi Kho Gayi Hia,

Jane Kyon Wo Mujhse Ajnabi Sa Ho Gaya Hai,
Lagta Hai Aisa Ke Phoolon Se Khushbu Hi Kho Gayi Hia,

Ye Kaisi Hawa Mere JisM Ko Chhu Gayi Hai,
Ukhdi Ukhdi Saans Bhi Be-Rubt Ho Gayi Hai,

Kyon Zindagi Ki Raat Itni Taweel Ho Gayi Hai,
Mujhse Shayad Pyar Ki Bhool Ho Gayi Hai,

Ab To Duniya Bahut Khush Ho Gayi Hai,
Saans To Chal Rahi Hai Lekin Rooh Saath Chhod Gayi Hia

Apni hi khusbooyon mein mehakta hua mila

Apni hi khusbooyon mein mehakta hua mila,
her sakhsh jaise sheep mein simta hua mila.

Kaisa Ajeeb sahar hai, kaise ajeeb log,
her ek kuchh talash sa karata hua mila.

Pehle hi ag mein the, hawa aur chal gayi,
dil doston ke beech sulgata hua mila.

Na waqt raha logon ke dilon mein,
daman ulphat ka ab ghatata hua mila.

Koosboo ke batein karta hai jo ab,
phoolon ko wohi kuchalta hua mila.

Kabhi kudh se jo mulakat ho gayi,
tanhayion ka jism pheeghalta hua mila.

Bechen hain dil apke bagair a

Bechen hain dil apke bagair ab,
Lakhon chahere me tuzko hi dhundhe meri nigahen
Mile jo tu dekha karu tuzko rat- din
Kal ki mulakat to abhi baki hain
Saton samndar le lo tum badle me lekin
Hata do aapke dil par jo paththar mere liye hain
Chahe bar bar marna pade muze tere liye
Bas ek hi bar pana chahti hu main tumhe
Apke sath se phir muze muskurana aaye
Kya aap sochoge ki main muskurati rahu
Zarurat hain apke pyar ki khusboo ki
Phir se mahek jaye meri jindgi ka bagicha,
Phool bankar na sahi, kanten banke to aao,
Achchha lagega muze kanton se milne vala dard bhi
Jab honge tum pas me mere,

Mother knows Every thing

जब तक मां से वह लोथड़ा नाभि से जुड़ा रहा, वह जीवन-दायिनी रस के सोम से तर होता रहा। जब नाभि से लोथड़ा एक स्वरूप में आकर अलग हुआ, तो भी एक अदृश्य रज्जु के जरिए उसे सोम-रस का मिलना जारी है और इस स्वरूप के खाक में मिल जाने के बाद भी मिलता रहेगा।

मां का व्यक्तित्व इतना व्यापक है कि उसके बखान के लिए न मेरे पास शब्दों का तरकश है और न भावनाओं का आकाश… फिर भी ये शब्द मेरे लिए किसी जागृत मंत्र से कम नहीं है। इस का इतना बड़ा प्रभाव है कि जो लोग मेरे परिचय में आए हैं या तो वे बता सकते हैं या फिर जिन लोगों ने ओम और मां शब्द पर एक्सपेरीमेंट्स किए हैं, वे इसकी असीमित सत्ता से परिचित हैं।

हम और आप, मां की इस सत्ता को जान नहीं पाएंगे, क्योंकि हमें मदर्स डे मनाने की आदत पड़ गई है। हम उन संस्कारों से दूर हो गए है, जहां मां की पूजा आंख खुलते ही की जाती रही है। आपको याद होगा मां ने हमें सिखाया था कि सुबह आंख खुलते ही अपनी हथेली को देखो और उन्हें चूमो। वे इस बात से हमारे अंदर अपनी तीनों शक्तियों दुर्गा-लक्ष्मी-सरस्वती को कर्मक्षेत्र में उपयोग करने की प्रेरणा देती रही, पर हमें तो मां की प्रेरणा बकवास और फिजूल लगी।

नतीजा सामने हैं…मां को अपमान करना कितना भारी पड़ रहा है , जब आज हम गर्मी के मारे बेहाल हो रहे होते हैं, कहते हैं ग्लोबल वार्मिंग का असर है, क्या मां ने हमें नहीं सिखाया था कि जब रात की नींद लेने के बाद सुबह उठो और धरती पर पहला कदम रखो, तो धरती से अपनी इस धृष्ठता के लिए क्षमा मांग लेना। वे रोजाना इन संस्कारों के रस हमारे अंदर डालती रही, क्योंकि उन्हें पता था कि हम जैसे छोटे-बड़े असंख्य जीवों को अपने रस से पोषित कर रही हैं घरती मां॥हमारा गलत कदम उनके काम में व्यवधामन डालेगा।, पर हमें क्या हम तो मां को असंस्कारी और अशिक्षित समझते रहे। उनके वचनों को प्रवचन क समझते रहे हैं..

वैसे अभी भी हमारी आंखें थोड़ी ही खुली है। हम मां के दिए संस्कारों को मॉडर्न भेड़चाल में सीमित करते जा रहे हैं॥और नतीजा यह है कि हमारी सांसे भी हमें बोझ लगने लगी है। हम अपनी हालात को मां दिया हुआ बता रहे हैं, क्यों? उस स्त्री ने संतान रूप में हमें श्रेष्ट बनाने के लिए अपनी सामथ्र्य से अधिक दिया है। अपनी जननी की तुलना कभी धरती से करके देखना, दोनों की हालत क्षीण से क्षीणतर होती जा रही है।

मुझे तो डर उस दिन का है, जब उनका धैर्य जवाब दे जाएगा॥तब…?लेकिन शायद ही ऐसा हो, मां के धैर्य की गंभीरता कोई नही नाप सकता है, क्योंकि संतान के एक सुख के लिए उनकी खुशियां कोई मायने नहीं रखती है। मां के आंसू शायद संतान के लिए कोई मूल्य न रखते हों, मगर संतान की आंख से लुढकता एक आंसू भी मां के कलेजे पर भारी पड़ता है। उसके दर्द को अगर कोई संतान नाप पाती तो शायद मां की महिमा यही खत्म हो जाती ,

मुझे भी कोई अधिकार नहीं हैं उन्हें कष्ट देने का, मगर अंजाने में ऐसी-ऐसी भूलें की हैं, जो अक्षम्य है, मगर मां तो ममतामयी है, उसने क्षमा मांगने से पहले ही मस्तक चूम लिया है और हर बार की तरह नसीहत दी है कि अपने अंदर की मां को जागृत रखना..ये तुम्हे ऊंचाई देगी, तुम्हे उस स्नेह रज्जु से बांधे रहेगी, जो दिखेगी नहीं, मगर इतनी मजबूत होगी कि टूटेगी भी नहीं…
क्यूकी माँ को सब पता है=======So Nice Word from my Ms. somadri sharma from jaipur